Stop Dreaming.... Start Doing....

"Educating the mind
without educating the heart
is no education at all."

Wednesday, 18 October 2017

आवेश के सरक्षण का नियम- Law of protection of charge

आवेश के सरक्षण का नियम:- किसी भी निकाय का कुल आवेश सदैव सरक्षित रहता है अर्थात न तो आवेश उत्पन्न होता है न ही नष्ट होताहै कुल आवेश सुरक्षित रहता है | इसे आवेश सरक्षण का नियम कहते है |

Ex. :-
  • 1.       जब किसी कॉच की छड को रेशम के कपडे सेघिसते है तो अभिक्रिया से पहले एवं अभिक्रिया के बाद कुल आवेश सदैव एक सामान रहता है |
  • 2.       प्रत्येक नाभिकीय अभिक्रिया में आवेश का सरक्षण होता है |
  • 3.       आइन्स्टीन के अनुसार उर्जा का द्रव्यमान में परिवर्तन होता है एवं एक फोटोन की उर्जा से सदैव एक इलोक्ट्रोंन एवं एक पोजीट्रोंन बनता है इसे युग्म उत्पादन की घटना कहते है इसमें भी आवेश का सरक्षण होता है |

  • एक फोटोन की उर्जा = एक इलेक्ट्रोन + एक पोजीट्रोंन

No comments:

Post a Comment

Follow by Email

Contact