Stop Dreaming.... Start Doing....

"Educating the mind
without educating the heart
is no education at all."

Our Mission


  अगर देखा जाए तो आंकड़े बताते है की हिन्दी विश्व के दूसरी सबसे ज्यादा बोली,पढ़ी और समझी जाने वाली भाषा है परंतु जब हम इंटरनेट पर कोई कंटैंट को सर्च करते है तो हमे कभी भी सुस्पष्ट कोई कंटैंट नहीं मिल प रहा है खासकर टेक्नालजी से संबन्धित। शुरुआत से ही मैं हिन्दी मे पढ़, लिख और बोल रहा हु इसलिए मैं इंटरनेट पर हमेशा हिन्दी मे सर्च क्लारता हु पर जब कोई सुस्पष्ट कंटैंट नहीं मिलता तब मुझे इंग्लिश का सहारा लेना पड़ता है। यह सभी आम लोगो के साथ भी होता है ओर फिर उन्हे इंग्लिश मे ही संतुष्टि कर लेनी पड़ती है चाहे कुछ समझ मे आए या नहीं आए।

   इंटरनेट पर हर जानकारी हिन्दी मे उपलब्ध हो इसलिए मैंने अपना थोड़ा योगदान हमारी मूल भाषा जिसने हमे एक सोच दी जिसकी मददसे आज हम इस मुकाम तक पहुचे है, उसके लिए अपना थोड़ा सहयोग दे और लोगो को हिन्दी मे जो हो सके कंटैंट उपलब्ध कराये।

हिन्दी क्यो बेहतर है इंग्लिश से भारतीयो के लिए?

  हिन्दी भाषा इसलिए बेहतर है क्योकि हम भारत के किसी भी जगह क्यो नहीं जाए चाहे वो दक्षिण मे केरल हो या उत्तर मे कश्मीर हो, कोई न कोई हिन्दी भाषा को जानने वाला व्यक्ति मिल जाएगा।

अगर आपका बचपन हिन्दी मे गुजरा है तो आप कितनी भी इंग्लिश पढ़ ले आपको सपने हिन्दी मे ही आएंगे।

1 comment:

Follow by Email

Contact